लखीमपुर तिकुनिया कांड : आशीष मिश्रा की जमानत याचिका पर सुप्रीम कोर्ट का निर्देश, निचली अदालत 29 तक आरोप तय करे

1

लखीमपुर तिकुनिया मामला: लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में तीन अक्टूबर 2021 (लखीमपुर खीरी टिकुना केस) को बवाल के बाद हुई हिंसा में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत हो गयी थी. इस मामले के मुख्य आरोपी केंद्र सरकार में गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा उर्फ ​​मोनू ने एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट की शरण ली है.

पढ़ें:- भीमा कोरेगांव केस: बॉम्बे हाई कोर्ट ने आरोपी आनंद तेलतुंबडे को दी जमानत, फैसले को NIA सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देगी

सुप्रीम कोर्ट से जमानत रद्द होने के बाद आशीष मिश्रा ने फिर याचिका दाखिल की है। केंद्र सरकार में मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे की याचिका पर कोर्ट ने लखीमपुर खीरी की ट्रायल कोर्ट को निर्देश दिया है। इस मामले में अब सुप्रीम कोर्ट में अगली सुनवाई 12 दिसंबर को होगी.

3 अक्टूबर 2021 को लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में उपद्रव के बाद भड़की हिंसा में चार किसानों के साथ-साथ भाजपा के तीन कार्यकर्ता और एक पत्रकार की मौत हो गई थी। इस मामले में केंद्र सरकार में गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा मोनू को मुख्य आरोपी बनाया गया था. मोनू समेत उसके तीन साथियों को भी नवंबर 2021 में गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था।

आशीष मिश्रा उर्फ ​​मोनू को गत फरवरी में जमानत मिली थी और वह जेल से छूट चुका है। इसके बाद इस मामले में विपक्ष ने इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में जमानत का विरोध किया था. सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई में आशीष मिश्रा उर्फ ​​मोनू को मिली जमानत को रद्द करते हुए उसे इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ खंडपीठ में फिर से अपील करने का निर्देश दिया. यहां जमानत नहीं मिलने के बाद मोनू ने फिर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।

लखीमपुर खीरी हिंसा मामले के मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा की जमानत याचिका पर शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. कोर्ट ने आशीष मिश्रा की जमानत याचिका पर लखीमपुर खीरी ट्रायल कोर्ट को आशीष मिश्रा के खिलाफ 29 नवंबर या उससे पहले सीमा शुल्क लगाने का आदेश दिया है। सुप्रीम कोर्ट भी अब इस मामले में जल्द फैसला चाहता है। इस मामले में निचली अदालत लखीमपुर की फांसी के बाद अगली सुनवाई 12 दिसंबर को होगी.

जानें :- सुप्रीम कोर्ट ने राजीव गांधी हत्याकांड में उम्रकैद की सजा काट रहे छह दोषियों को रिहा किया

Download Lokjanta App

Leave A Reply

Your email address will not be published.