किसान : हाथरस नहर में पानी नहीं, फसलों की सिंचाई का रास्ता, शिकायत करने पर भी नहीं सुन रहा कोई

1
हाथरस: केंद्र सरकार किसानों की आय दोगुनी करने के दावे कर रही है, लेकिन जमीनी हकीकत इसके बिल्कुल उलट है। सरकार किसानों को उनकी फसलों की सिंचाई के लिए पानी तक उपलब्ध नहीं करा पा रही है। इसकी बानगी उत्तर प्रदेश के हाथरस में देखने को मिली। हाथरस शाखा की नहर में करीब दो माह से पानी नहीं है, जिससे किसान रबी फसलों की सिंचाई के लिए तरस रहे हैं। सिंचाई विभाग के आंकड़ों के अनुसार सिंचाई के लिए करीब 1 लाख 3 हजार 292 हेक्टेयर कृषि भूमि हाथरस विभाग नहर पर निर्भर है। वर्तमान में जिले में मुख्य फसलें आलू, गेहूं, सरसों, बरसीम, मटर हैं। फसल बोने के बाद पहली सिंचाई चाहते हैं। नहर में पानी नहीं होने के कारण इन फसलों की सिंचाई नहीं हो पा रही है। किसानों का कहना है कि वे मामले की कई बार संबंधित अधिकारियों से शिकायत कर चुके हैं। इसके बावजूद अभी तक नहर में पानी नहीं आया है।

किसान विकास ने बताया कि करीब दो माह से नहर में पानी नहीं है। हमारे गांव में वर्तमान समय में आलू, गेहूं, जौ, बरसीम प्रमुख फसलें हैं। नहर में पानी नहीं आने की हम कई बार संबंधित अधिकारियों से शिकायत कर चुके हैं। मुख्यमंत्री के पोर्टल पर भी शिकायत की गई है। संभाग के अधिकारियों का कहना है कि एक दिसंबर से नहर में पानी आना शुरू हो जाएगा। ओम प्रकाश ने बताया कि नहर में पानी नहीं आने से फसलें सूख रही हैं। फिलहाल हमने क्षेत्र में गेहूं व आलू की फसल लगाई है। दोनों फसलों को पानी की जरूरत है। हमारे पास सिंचाई की कोई दूसरी तकनीक नहीं होती। नहर से ही फसलों की सिंचाई करें। अधिकारियों से भी शिकायत कर चुके हैं, लेकिन अभी तक समस्या का समाधान नहीं हुआ है। विनीत उपाध्याय ने बताया कि दो माह से नहर में पानी नहीं आने से फसल सूखकर बर्बाद हो रही है. सिंचाई के लिए कोई अलग साधन नहीं है। इस बार हमने बीस बीघा क्षेत्र में गेहूं की फसल लगाई है। इसके अलावा आलू और बरसीम की फसल है। अभी सभी फसलें सिंचाई चाहती हैं। अधिकारियों से शिकायत करने के बावजूद नहर में पानी नहीं आया है।

क्या जवाबदेह है
सिंचाई खंड हाथरस के कार्यपालन यंत्री बलजीत ने बताया कि अक्टूबर माह में अतिवृष्टि के कारण नहर बंद हो गई थी। वर्तमान में सिल्ट की सफाई का काम चल रहा है। गाद की सफाई का काम संभवत: इस माह के अंत तक पूरा कर लिया जाएगा। इसके बाद नहर में पानी आएगा।
रिपोर्ट-भाग्यशाली शर्मा

Download Lokjanta App

Leave A Reply

Your email address will not be published.